महाशिवरात्रि को शिव भगवन को चढ़ाएं ये 5 चीज़ें समाप्त हो जाएंगे सब कष्ट

पंचांग के हिसाब से  इस वर्ष महाशिवरात्रि फाल्गुन महीने के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि आठ मार्च को रात्रि में करीब 9:57 बजे से स्टार्ट होगी।

उस दिन भोले भगवन को खुश करने के लिए शिव भगवन के भक्त पूरे मन तथा विधि विधान से उनकी पूजा पाट करते हैं।

ज्योतिषाचार्यों के हिसाब से महाशिवरात्रि पर भगवन भोले शंकर के पूजा करते समय बेलपत्र अवश्य शामिल करना चाहिए।

असल बात ये है की,  शिव भगवन को बेलपत्र काफी पसंद है। साथ ही साथ भगवन का गंगा के जल से उनका अभिषेक भी करना चाहिए

ये माना जाता है कि अभिषेक तथा बेलपत्र के बाद ही शिवलिंग पर चंदन का लेप भी लगाना चाहिए।

लेप लगाने के बाद भगवन को अक्षत तथा काला तिल भी अर्पण करना चाहिए।

ये माना जाता है कि ऐसा करने से सभी प्रकार के बाधाओं से मुक्ति मिलती है तथा ज़िन्दगी के पाप भी नष्ट होते है तथा घर मे किसी प्रकार  कलेश भी नहीं होता है।

साथ ही साथ  दही, शहद,शक्कर,कच्चे दूध तथा देसी घी से बने पंचामृत से शिवलिंग को अभिषेक करना चाहिए तथा उनको मदार का हार चढ़ाना चाहिए।